1 / 14
2 / 14
3 / 14
4 / 14
5 / 14
6 / 14
7 / 14
8 / 14
9 / 14
10 / 14
11 / 14
12 / 14
13 / 14
14 / 14

Story of Appreciation One young and academically excellent person went to apply for a managerial position in a big company. He passed the first interview while the director did the last interview to made the final decision. The director discovered from the CV that the youth's academic achievements were excellent all the way, from the secondary school until the postgraduate research. There was never a year when he did not score good grades. The director asked, "Did you obtain any scholarships in school?" the youth answered "None." The director asked, "Was it your father who paid for your school fees?" The youth answered, "My father passed away when I was one year old, it was my mother who paid for my school fees." The director asked, "Where did your mother work?" The youth answered, "My mother worked as clothes cleaner at a laundry." The director requested the youth to show his hands. The youth showed a pair of hands that were smooth and perfect. The director asked, "Have you ever helped your mother wash the clothes before?" The youth answered, "Never, my mother always wanted me to study and read more books. Furthermore, my mother can wash clothes faster than me." The director said, "I have a request. When you go back today, go and clean your mother's hands, and then see me tomorrow morning." The youth felt that his chance of landing the job was high. When he went back, he happily requested his mother to let him clean her hands. His mother felt strange, happy but with mixed feelings, she showed her hands to her son. The youth cleaned his mother's hands slowly. A tear fell as he did that. It was the first time he noticed that his mother's hands were so wrinkled, and there were so many bruises in her hands. Some bruises were so painful that his mother shivered when they were cleaned even with plain water. This was the first time the youth realized that it was this pair of hands that washed the clothes everyday to enable him to pay the school fee. The bruises in the mother's hands were the price that the mother had to pay for his graduation, academic excellence and his future. After finishing the cleaning of his mother hands, the youth quietly washed all the remaining clothes for his mother. That night, mother and son talked for a very long time. Next morning, the youth went to the director's office. The Director noticed the tears in the youth's eyes, asked: "Can you tell me what have you done and learned yesterday in your house?" The youth answered, "I cleaned my mother's hand, and also finished cleaning all the remaining clothes." The Director asked, "Please tell me your feelings." The youth said, Number 1, I know now what is appreciation. Without my mother, there would not be the successful me today. Number 2, by working together and helping my mother, only I now realize how difficult and tough it is to get something done. Number 3, I have come to appreciate the importance and value of family relationship. The director said, "This is what I am looking for to be my manager." I want to recruit a person who can appreciate the help of others, a person who knows the sufferings of others to get things done, and a person who would not put money as his only goal in life. You are hired. Later on, this young person worked very hard, and received the respect of his subordinates. Every employee worked diligently and as a team. The company's performance improved tremendously. A child, who has been protected and habitually given whatever he wanted, would develop "entitlement mentality" and would always put him self first. He would be ignorant of his parent's efforts. When he starts work, he assumes that every person must listen to him, and when he becomes a manager, he would never know the sufferings of his employees and would always blame others. For this kind of people, who may be good academically, may be successful for a while, but eventually would not feel sense of achievement. He will grumble and be full of hatred and fight for more. If we are this kind of protective parents, are we really showing love or are we destroying the kid instead? You can let your kid live in a big house, eat a good meal, learn piano, watch a big screen TV. But when you are cutting grass, please let them experience it. After a meal, let them wash their plates and bowls together with their brothers and sisters. It is not because you do not have money to hire a maid, but it is because you want to love them in a right way. You want them to understand, no matter how rich their parents are, one day their hair will grow grey, same as the mother of that young person. The most important thing is your kid learns how to appreciate the effort and experience the difficulty and learns the ability to work with others to get things done. व्यवहार में शिष्टाचार व्यवहार से पता चलता है कि व्यक्ति किस स्वभाव का है। व्यवहार मे शिष्टाचार का होना इसलिये ज़रूरी है क्योंकि दोस्त और दुश्मन दोनो शिष्टाचार अर्थात व्यवहार से ही मिलते हैं। अच्छा व्यवहार दूसरों की नज़रों मे भी ऊंचा उठाता है। कुछ सामान्य बातें जो प्रत्येक व्यक्ति को अपने दैनिक जीवन मे अपनानी चाहियें क्योंकि शिष्टाचार व्यवहार का आईना है। A किसी के यहां बिना बताए ना जाएं। जाने से पहले उन्हे सूचित कर दें। A किसी ऐसे कार्यक्रम, जहां बच्चो का ले जाना मना है, तो वहां बच्चे ना ले जाएं। A सामने वाले से आँखे मिला कर बात करें, इससे सामने वाले के हाव-भाव का पता चलता है। A मूड कितना भी खराब हो, किसी को भी चिल्ला कर या झल्ला कर जवाब ना दें। A आवाज़ धीमी और विचार साफ रखें। A किसी भी व्यक्ति का मज़ाक ना उडाएं। A किसी को गलत नाम से ना बुलाएं। A जब भी पूल पार्टी हो, अपना हिस्सा इमानदारी से दें। A यदि आप बाजार मे हैं तो लिपस्टिक लगाना या साडी का पल्लु ठीक करना अभद्रता है। A यात्रा करते समय किसी से अखबार मांग कर न पढ़े, ये असभ्यता है। A यदि बच्चों, बुजुर्गों, या महिलाओं को सड़क पार करते देखें तो गाडी की गति धीमी कर दें। A पब्लिक टायलेट इस्तेमाल करने के बाद फ्लश जरूर करें। A टायलेट पेपर इस्तेमाल करने के बाद डस्टबिन मे ही डालें, यहां-वहां न फैंके। A दूसरों का सम्मान करें। भ्रष्टाचार कैसे रोकें? इससे पहले ये अवगत होना आवश्यक है की इसका बीज कहाँ से उत्पन्न होता है | माँ बच्चों को घर में शिक्षा देती है मन लगाकर पढो और पिता पढने में उसकी मदद करते हैं | विद्यालय में ये शिक्षा दी जाती है की हमें अनुशाशन में रहना चाहिए | हमें बड़ों का सम्मान और छोटों को स्नेह देना चाहिए | हमें प्रार्थना करना सिखाया जाता है जिससे हमारा मन कलुषित विचारों से दूर रहे और हम अच्छे व्यवहारों को सीखे और सिखाएं | परीक्षाएं ली जाती है जिसमे हम अपने मेहनत से उत्तीर्ण होते हैं | अगर हर छात्र अपने पर विश्वास करे और मेहनत से अनुशाशन के साथ रहे और अपने गुरुओं की बातों को माने तो इस भ्रस्टाचार का अंत इसके जन्म लेने से पहले ही हो जाए | "भ्रष्टाचार के पापी बीज को हम पनपने न देंगे देश के दामन पर दाग हम लगने न देंगे कदाचार से मुक्त होगी परीक्षा आत्मनिर्भर बनने की इच्छा मानसिक बल को अपने हम मरने न देंगे गलत दिशा में किसी को हम भटकने न देंगे " कुछ बड़ा होने पर हम महाविद्यालयों में जाते हैं | वहाँ अगर हम कदाचार मुक्त रहें और प्रमाण पत्र मांगे जाने के बदले में धन राशि लेने के धंधे का मिलकर विरोध करें तो ये भ्रस्टाचार युवकों के खून से बाहर निकल जायेगी और देश का नव निर्माण हो सकेगा | आज युवक अपने ज्ञान का दुरूपयोग कर रहे हैं | वो नए नए ठगने के तौर तरीके सिख कर दुसरे कमजोर छात्रों से पैसे लेकर परीक्षा में उनके बदले बैठते हैं और इससे मेधावी छात्रों का बहुत नुकसान होता है, साथ ही देश के युवा खून भी मैले हो जाते हैं | आने वाली पीढ़ी क्या सीखेगी ? इस तरह की घटनाओं को रोकने के लिए अभियांत्रिकी का सहयोग लेना चाहिए | हस्त लिखित प्रमाण,अंगुली चिह्न लेना,विडियो बनाना आदि | जिस दिन ऐसी परीक्षाएं होती हैं उसी दिन अगर महाविधायालयों में भी परीक्षा रख दी जाए तो और भी अच्छा रहेगा | महाविधालय में प्रवेश करने से पहले छात्रों का पूरा परिचय ले लेना चाहिए | बायोमेट्रिक कार्ड को किसी भी परीक्षा देने समय लाना आवश्यक कर देना चाहिए| और उसके सभी डाटा को परीक्षा केंद्र में समेटने के लिए तंत्र लगाया जाना चाहिए| भारत के अभियंता और वैज्ञानिक ऐसा करने में सक्षम हैं | बस सरकार और परीक्षा आयोजित करने वाले संस्थान अपना पूर्ण सहयोग दें | जिनके पास बायोमेट्रिक कार्ड नहीं है उनंके ऊँगली चिन्ह या रेटिना को पहचान मान उनका डाटा समेट लेना चाहिए | परीक्षा केन्द्रों परइसके लिए तंत्र लगाना चाहिए | कुछ वक़्त जाया होगा पर मेधावी छात्रों और देश का नुकसान तो नहीं होगा | अगर आभियांत्रिकी क्रांति से भ्रस्टाचार का समूल नाश हो सकता है तो थोड़ी परेशानी सही जा सकती है एक बेहतर भारत के लिए| नेताओं को चुनने वक़्त हमें उनके द्वारा किये गए पिछले कार्यों पर ध्यान देना चाहिए और मत का प्रयोग सचेत होकर करना चाहिए अगर सरकार ठीक से वायदे नहीं निभा रही ही तब मीडिया , प्रेस , समाचार-पत्र , ब्लॉग आदि के माध्यम से उन्हें आगाह करता रहना चाहिए | कहीं भी अगर रिश्वत मांगी जाए तो मिलकर इसका विरोध करनी चाहिए आखिर मेहनत से कमाते हैं रिश्वत क्यों दे और क्यों लें | ये जान ले की कफ़न में जेब नहीं होता | मूल्य से अधिक रुपये मांगे जाने पर इसका विरोध करें और उस दुकानदार से न ले सामान | अगर वो फिर भी नहीं माना तो इसका विरोध उपभोक्ता अदालत में करायें और बिल लेना न भूलें नहीं तो कानूनी कार्यवाही में अड़चन आ जायेगी | जब भी हो पीड़ित का साथ दें | आवाज़ दे हम एक हैं | मैनेजमेंट कोटा के नाम पर लाखों लेने वाले संस्थानों को बंद करवाने के लिए मुहीम छेड़ें | सम्पति का केन्द्रीयकरण रोकने लिए प्रयास करें | ऐसे संस्थान मेधावी छात्रों को तो नौकरी लेने में अड़चन देते ही हैं और बड़ी बड़ी ज़मीन पर कब्ज़ा करके बैठे रहते हैं | रईसजादे दौलत के दम पर प्रवेश लेकर उनको बढ़ावा देते हैं | सरकार को इनके खिलाफ शख्त कदम उठाना चाहिए | कोचिंग संस्थानों के खिलाफ भी कार्यवाही होनी चाहिए |छात्रों का मानसिक विकास अवरुद्ध होता है | उनकी नैसर्गिकता का हनन होता है | छात्र भारत के उच्च संस्थानों से पढ़कर विदेश में नौकरी करने चले जाते हैं | वो यहाँ रहकर अपने स्वच्छ विचारधारा से भ्रस्ट हो चुके नौकरशाही से निजात दिलाने में अग्रिम भूमिका निभा सकते हैं | उन्हें अब आगे आना होगा तभी देश से भ्रष्टाचार का नाश होगा और अगर वो यहाँ आने में सक्षम नहीं हैं तो मीडिया ,ब्लॉग आदि के द्वारा भ्रस्टाचार के विरुद्ध आवाज़ उठायें | सब एक दीप जलाएं तो क्रांति की मशाल जली रहेगी | जय हिंद | जल्दी पाने के होड़ में हमें गलत तरीके नहीं अपनाना होगा | सिफारिश से ली गयी नौकरी से अच्छा है हम अपने दम पर आत्न्निर्भर बने और एक उदाहरण बने दूसरों के लिए | न्याय मिलने में यहाँ गवाह खरीद लिए जाते हैं | हमें फास्ट ट्रैक कोर्ट से गंभीर रूप से पीड़ितों के दुःख का निवारण करना होगा | ज़ुल्म करने वालों के विरुद्ध आवाज़ उठाना होगा |कलम से वाणी से या ज़रुरत पड़ी तो कटार से भी हमें दुष्टों को सजा देना होगा | हम भारत के न्यायालय का सम्मान करते हैं लेकिन मानवीय मूल्य जिसपर भारत टिका हुआ है ,जिससे इसकी पहचान है पुरे जग में ,उसका सम्मान करना होगा नहीं तो क्रान्ति होगी कलम से |ये लाल बहादुर का देश है , ये वीर सुभाष चन्द्र बोस का देश है ,ये कलाम ,किरण बेदी और सबरीना लाल का देश है | हम सत्य की क्रांति से दुश्मन को थर्रा सकते हैं |न्याय के लिए पूरा भारत एक है |जिस जोश के साथ जवान अपनी बन्दूक चलाते है भारत माँ की लाज बचाने के लिए..उसी जूनून के साथ हम भी अपनी कलम से,अपने सत्य क्रांति से दुष्टों के नाक में दम कर देंगे ... चला अकेला ही था वो वो कलम का एक सिपाही था प्रेमचंद या हो दिनकर वो शब्द-क्रांति का एक प्रहरी था विपत्ति आती है जब जब जीवन मद्धम हो जाता है कलमकार शब्दों से लड़ता हर युद्ध जीतता जाता है सोये जनमानस को भी एक राह वही दिखलाता है जागृति लाता है और युग बदल जाता है ओर्विन्दो ,दिनकर ,सुब्रमण्यम के शब्दों ने बिगुल विप्लव की बजायी थी बिस्मिल ने भी शब्दों से ही वर्तानियों की नींद उडाई थी वक़्त ने ललकारा है फिर कलम धरो नौजवानों भ्रटाचार से जूझ पड़ो a b c d e f g h i j k l m n o p q r s t u v w x y z a b c d e f g h i j k l m n o p q r s t u v w x y z hindi magazine guldusta online lekh new zealand recipies nuske tips abcdefghijklmnopqrstuvwxyz qwertyuiop content हिंदी